Import meaning in Hindi – import ka hindi meaning kya hota hai

Import meaning in hindi – Import ka hindi meaning kya hota hai भारत सहित दुनियाभर में आयात-निर्यात का व्यापार लम्बे समय से चलते आ रहा है । जिसके द्वारा किसी स्थान से किसी दूसरे स्थान पर वस्तु (Cargo) का आदान-प्रदान होते रहता है

जिससे करोड़ों का समान एक दिन में इम्पोर्ट एक्सपोर्ट करके पहुँचाई जाती है। भारत भी अपने लॉजिस्टिक्स सिस्टम का इस्तेमाल करके सिर्फ समान को एक देश से दूसरे देश तक पहुंचाने में अरबों का व्यापार करता है।

ऐसा नही है कि Import Export Business शुरू बड़ी-बड़ी कंपनी ही कर सकती है,

बल्कि आप शुरुआती व्यापार निवेश करके भी इस तरह का बिज़नस कर सकते है। आजकल इम्पोर्ट एक्सपोर्ट बिज़नस भारत सहित दुनियाभर में काफी फायदे का व्यापार क्षेत्र है,

जिसमें आपको कम इनवेस्टमेंट में एक अच्छी बेनेफिट्स होती है।

आपके जानकारी के लिए बता दे Import और Export दोनों एक तरह का ही बिज़नस है, जिसमें आपको समान को एक जगह से दूसरे जगह तक पहुंचानी होती है,

लेकिन दोनों का अर्थ अलग-अलग है। अगर आप इस तरह के व्यापार शुरू करने वालें है, उससे पहले आपको इसके बारें में पूरी बातें पता होनी चाहिए।

इस आर्टिकल में आप Import meaning in Hindi, आयात व्यापार किसे कहते है और इसकी शुरुआत कैसे करें के बारें में जानने वालें है साथ ही इससे संबन्धित सभी जानकारी इसके माध्यम से आपको पता लगने वाली है। इम्पोर्ट मीनिंग इन हिन्दी

 

Import meaning in Hindi
Import meaning in Hindi

 

Import ka hindi meaning kya hota hai | Import meaning in hindi

Import का हिन्दी में अर्थ आयात सामाग्री या विदेश का माल देश में लाना होता है। यह एक तरह का व्यापार है जिसे इम्पोर्ट एक्सपोर्ट बिज़नस के नाम से जाना जाता है।

जिसमें इम्पोर्ट बिज़नस में आपको किसी दूसरे स्थान से सामाग्री को किसी दूसरे स्थान तक लाना होता है।

  • Import meaning in Hindi: – आयात, आयात करना, आयात सामग्री, आयात सामग्री का, महत्व, तात्पर्य, अर्थ होना, विदेश से माल अपने देश में लाना, द्योतित करना, आशय
  • Importer meaning in Hindi: – विदेश से माल अपने देश में लाने वाला, आयातकर्ता, अर्थ होनेवाला, आयात करनेवाला

यह स्थान किसी राज्य, देश या विदेश हो सकती है, जिसमें आपको किसी दूसरे देश से अपने देश में समान लाना होता है। आयात जिसे अंग्रेजी में इम्पोर्ट कहते हैं

इसका सामान्य अर्थ होता है किसी भी अन्य देश से अपने देश में कुछ मंगाना। विश्व के सभी देश एक दूसरे से व्यापार करते हैं। इस व्यापार में एक देश दूसरे देश से या तो कुछ खरीदता है या उस देश को कोई वस्तु बेंचता है।

 

आयात व्यापार किसे कहते है | What is import business in hindi

यह एक ऐसी व्यापार है, जिसमें बहुत सारें सामाग्री को एक साथ एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले लाना होता है। जिसके जरिये किसी देश को या फिर राज्य को किसी सामाग्री की कमी उनके यहाँ हो जाती है तब वह इम्पोर्ट यानि आयात व्यापार के जरिये किसी दूसरे देश से सामान अपने देश में मँगवाते है।

इसी तरह इसका विपरितार्थक अगर किसी देश के पास कोई सामाग्री उनके यहाँ प्रचुर मात्रा में है तब इसके जरिये कोई दूसरा देश अपने देश में उस सामाग्री का आयात कर इसकी कमी को पूरा करती है।

आयात का मतलब होता है कि कोई भी वस्तु को अपने देश या क्षेत्र में किसी दूसरे देश या क्षेत्र से मँगवाना आयात व्यापार कहलाता है।

जैसे भारत में पेट्रोलियम की काफी कमी है, लेकिन इसका खपत हर दिन यहाँ लाखों टन की होती है। जिससे भारत इसकी कमी को पूरा करने के लिए ऐसे विदेशी देश से इसका आयात करती है, जिनके पास इसका प्रचुर मात्रा मौजूद है और वह इसका व्यापार करते है।

 

निर्यात व्यापार किसे कहते है | what is export business in hindi

यह एक ऐसी व्यापार होती है, जिसमें किसी सामग्री को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाना होता है। निर्यात किसी देश की आर्थिक स्थिति को मजबूत करने का एक महत्वपूर्ण जरिया है।

अतः हम कह सकते हैं कि वे सभी क्रियाएं जिनके द्वारा कोई देश दूसरे देश को वस्तु या सेवा का विक्रय करता है

और उसके बदले में उसे विदेशी मुद्रा प्राप्त होती है निर्यात कहलाती है। इस तरह खरीद-बिक्री का व्यापार करना ही आयात-निर्यात व्यापार कहलाती है।

आयात और निर्यात दोनों ही विदेश व्यापार के अंतर्गत आते हैं। एक ही देश किसी वस्तु का आयातक हो सकता है तो दूसरी वस्तु का निर्यातक।

Export meaning in Hindi : – निर्यात, अपने देश से कोई माल विदेश में भेजना, निर्यात करें, निर्यात करना, माल बाहर भेजना, निर्यात किया हुआ माल

Exporter meaning in Hindi : – निर्यातक, निर्यातकर्त्ता, निर्यात व्यापारी, अपने देश से माल दूसरे देश में भेजने वाला

 

Top 10 imports of India in Hindi | india main kya import hota hai 

Market and consumer data firm के अनुसार भारत वर्ष 2020-21 में सबसे अधिक नीचे दिये गए वस्तुओं का आयात करता है, जिसे वह सबसे ज्यादा चीन से 13.7% से अधिक का सामाग्री अपने देश में लाता है।

इसके अलावा भारत सबसे ज्यादा वस्तु का आयात अमेरिका, यूएई, सऊदी अरब, इराक, हाँग काँग, स्विट्ज़रलैंड, साउथ कोरिया, इंडोनेशिया और सिंगापूर से करता है। इस तरह इंडिया इन सभी देशों से 54.6% से अधिक की सामाग्री अपने यहाँ लाती है।

  • कच्चा पेट्रोलियम (6%)
  • सोना (9%)
  • पेट्रोलियम उत्पाद (8%)
  • कोयला, कोक और ब्रिकेट (7%)
  • मोती, कीमती और अर्ध-कीमती पत्थर (7%)
  • इलेक्ट्रॉनिक घटक (4%)
  • दूरसंचार उपकरण (3%)
  • कार्बनिक रसायन (5%)
  • औद्योगिक मशीनरी (5%)
  • इलेक्ट्रिक मशीनरी और उपकरण (3%)

 

Import Export Business की शुरुआत कैसे करें

यह एक लम्बे समय तक चलने वाला बिज़नस मॉडेल है। जिसमें आप कम या अधिक निवेश करके एक अच्छी व्यापार की शुरुआत कर सकते है। इसमें आपको आयात के रूप में दूसरे देश से सामान लाकर अपने देश में बेचना होता है,

और निर्यात के रूप में अपने देश से सामान को दूसरे देश के डीलर तक पहुंचानी होती है। जब आप इस तरह के बिज़नस की शुरुआत करते है तब आप दूसरे देश के नागरिक के साथ ही नही बल्कि उस देश के सरकार के साथ भी जुड़ जाते है।

अगर कोई चीज भारत में अधिक मात्रा में मौजूद है और किसी दूसरे देश में इसकी काफी कमी है और इसकी अधिक से अधिक माँग है तब आप उस सामाग्री को अपने देश से उस देश में जाकर बेचकर मुनाफा कमा सकते है इसके साथ ही दूसरे देश से अपने देश में माल को लाकर बेच भी सकते है।

भारत में किसी भी तरह के व्यापार यानि बिज़नस को शुरू करने से पहले आपको उसका पंजीकरण करवानी होती है उसके बाद ही भारत सरकार आपको इसे शुरू करने का इजाजत देती है।

उसी तरह इम्पोर्ट एक्सपोर्ट बिज़नस की शुरुआत करने के लिए सबसे पहले आपको पंजीकरण करवानी होती है।

 

Import and Export Business Requirements या कोई भी व्यापार को करने के लिए आपको तीन चीजों की जरूरत पड़ती है जिसके आधार पर इस व्यापार को शुरू किया जा सकता है: –

  1. निवेश (Investment)
  2. व्यापार नीति (business plan)
  3. लाइसेंस (license)

 

Import Export Business Investment in Hindi

इस तरह के व्यापार को करने के लिए आपको एक बड़ी निवेश भी करना पर सकता है यह निर्भर इस बात पर करती है कि आपका बिज़नस प्लान क्या है यानि इसकी शुरुआत आप किस रेखा से करना चाहते है। इसमें ज्यादा निवेश आपको जमीन खरीदने में ही करना पर जाती है

अगर आपके पास जमीन नही है तब ऑफिस या गोदाम के लिए लीज पर जमीन ले सकते है, जिसके लिए 20 हजार से अधिक रुपया हर महिना देना पर सकता है।

साथ ही इसमें बहुत सारी लॉजिस्टिक्स इकोसिस्टम वेहिकल इत्यादि में निवेश करना होता है। जिसमें 1 एक से अधिक का शुरुआती और छोटी निवेश करना होगा।

  • इनवेस्टमेंट 1 लाख से अधिक

 

Important point for Starting Import Export Business 

  • सही प्रोडक्ट का चुनाव
  • Potential Market का चयन करे
  • खरीदार खोजें
  • सैंपल को मगवाएं
  • टेक्नोलॉजी की जानकारी ले

 

Document for Import and Export business 

अपना बिज़नस का पंजीकरण करवाने यानि उसका लाइसेन्स लेने के लिए आपको कई तरह के दस्तावेज़ की जरूरत पड़ती है, जिसका सूची नीचे दिया गया है :

Personal Document (PD): – Personal Document के अन्दर बहुत से डॉक्यूमेंट होते है जैसे : 

  • ID Proof :- Aadhaar Card , Pan Card , Voter Card
  • Address Proof :- Ration Card , Electricity Bill ,
  • Bank Account With Passbook
  • Photograph Email ID , Phone Number ,
  • Other Document

Business Document (PD):- Business Document के अन्दर बहुत से डॉक्यूमेंट होते है जैसे : 

  • MSME industry Aadhaar Registration
  • Business Registration
  • Business pan card
  • GST Number
  • VAT/CST and IEC Code
  • LLP Registration

 

आपको इम्पोर्ट एक्सपोर्ट का व्यापार शुरू करने से पहले अपने कंपनी का पंजीकरण करवाना होगा। जिसके जरिये IEC code (Import Export Number) Ad Code लेना होता है।

जिससे इस बिज़नस को शुरू करने से पहले आपके पास यह दोनों कोड का होना आवश्यक है,

जिसके जरिये भारत सरकार आपके माल पर कस्टम टैक्स लगाती है और उसपर अपनी नज़र बनाये रखती है। साथ ही Ad code लेने से आप एक authorized dealer बन जाते है,

जिससे देश-विदेश में आपके साथ किसी भी तरह की धोखाधड़ी होती है तब उसकी ज़िम्मेदारी सरकार और बैंक की हो जाती है।

इन सभी तरह के लाइसेन्स उद्यमिता मंत्रालय भारत सरकार के द्वारा जारी की जाती है। जब आपको इसका लाइसेन्स मिल जाती है तब आप विदेशों से सामान खरीदकर अपने देश में कंटेनर में रखकर समुद्री जहाज के जरिये ला सकते है और उसे डीलर तक पहुँचा कर व्यापार की शुरुआत कर सकते है।

 

हमें इम्पोर्ट बिज़नस क्यों करना चाहिए?

यह एक तरह का अंतर्राष्ट्रीय व्यापार होती है। जिसके जरिये आप दूसरे देश से अपने देश में किसी भी तरह के माल को लाकर बेच सकते है। यह दुनिया का सबसे अच्छा बिज़नस में से एक है जो सबसे तेजी से अपना व्यापार क्षेत्र को बढ़ाती है।

अगर आपके क्षेत्र या राज्य में किसी तरह के समान की अधिक माँग है, लेकिन वह भारत में अधिक मूल्यों में मिल रहा है तब आपको ऐसे देशों से इसका आयात करना चाहिए, जो इसे कम दामों में बेचती है। इस तरह आप उसे पहले से मिल रही राशि से कम में उस माल को बेच सकते है और इस व्यापार को बढ़ा सकते है।

साथ ही इसमें विदेशी पूंजी भी शामिल होती है। जो हमारे और हमारे देश की तरक्की के लिए काफी ज्यादा जरूरी होती है। इम्पोर्ट एक्सपोर्ट के माध्यम से ही हम अपने देश का विदेशी पूंजी भंडार बढ़ा सकते हैं| इसीलिए सभी देशों में एक्सपोर्ट करने पर ज़ोर दिया जाता है।

हालाँकि एक्सपोर्ट के जरिये आप देश की संपप्ति बढ़ाने में अपनी योगदान दे सकते है, लेकिन इम्पोर्ट लॉजिस्टिक्स में आपको अपने देश का पैसा किसी दूसरे विदेशी देश में देकर वहाँ से माल खरीदना होता है। यह बहुत सारें लोगों के लिए रोजगार का अवसर लेकर भी आती है।

 

FAQ: Export-import business in hindi

मैं आयात कैसे शुरू कर सकता हूं?

जबाव: – इस बिज़नस को शुरू करने का सबसे आसान तरीका खुद को शिक्षित करना है। जब आपके पास इसका ज्ञान हो जायेगी, तब ऐसे प्रॉडक्ट का चुनाव करें, जिसकी माँग यहाँ सबसे ज्यादा है और उसे ऐसे देश से आयात करें, जहाँ यह कम किमत और अधिक उपलब्ध हो।

आयात करने के लिए सबसे अच्छे उत्पाद कौन से हैं?

जवाब: – अगर आप चीन से कम किमत में माल का आयात का व्यापार करना चाहते है तब आपको ऐसे उत्पाद को चुनना होगा, जिसका माँग यहा अधिक है। आप चीन से Home decor and furniture, Children Toys, Pet supplies,

Clothing, Electronic gadgets, Phones and accessories, Computer, Car electronics, Light and accessories, Outdoor and travel products इत्यादि चीजें का आयात कर सकते है।

क्या इम्पोर्ट एक्सपोर्ट बिज़नस शुरू करने के लिए लाइसेंस की जरूरत पड़ती है?

जवाब: – हाँ, इसके लिए लाइसेंस का होना बहुत ही जरूरी होती है, क्योंकि यह अंतरराष्ट्रीय व्यापार होती है। आप छोटी शुरुआत भी करते है तब भी आपको इसके लिए GST Number, VAT/CST and IEC Code, LLP Registration और MSME पंजीकरण का होना जरूरी है।

इम्पोर्ट एक्सपोर्ट बिज़नस के लिए बेस्ट कंट्री?

जवाब: – एक अच्छी व्यापार को शुरू करने से पहले आपको उन देशों के बारें में जानना बहुत जरूरी होता है, जहाँ से आप आयात-निर्यात करने वालेन है। इसके लिए आप अमेरिका, चीन, जर्मनी, जापान, यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस के साथ जा सकते है।

इम्पोर्ट एक्सपोर्ट क्या होता है?

जवाब: – अपने देश से कोई प्रोडक्ट या सर्विस दूसरे देश में भेजना एक्सपोर्ट कहलाता है तथा दूसरे देश (विदेश) से कोई प्रोडक्ट या सर्विस अपने देश में मंगवाना इम्पोर्ट कहलाता है। इस तरह इन दोनों के जरिये गूड्स का आदान-प्रदान एक जगह से दूसरे जगह तक किया जाता है।

 

अंतिम शब्द

इस लेख में आपने इम्पोर्ट बिज़नेस कैसे शुरु करें? | How to start import export business in India के बारें में जाना। आशा करते है आप import meaning in hindi | इम्पोर्ट का मतलब की पूरी जानकारी जान चुके होंगे।

आपको लगता है कि इसे दूसरे के साथ भी शेयर करना चाहिए तो इसे Social Media पर सबके साथ इसे Share अवश्य करें। शुरू से अंत तक इस लेख को Read करने के लिए आप सभी का तहेदिल से शुक्रियास…

Leave a Comment

error: Content is protected !!