Bharat mein internet patrakarita ka pahla daur kab shuru hua

Bharat mein internet patrakarita ka pahla daur kab shuru hua: आजके समय में हम सब भी बहुत सी जानकारी इंटरनेट से प्राप्त करते है अगर आंकड़ों की बात करे तो आज हर व्यक्ति इंटरनेट पर ही निर्भर है चाहे वो जानकारी के लिए ही या किसी और चीज़ के लिए हो

इंटरनेट का इस्तेमाल भारत में 15 अगस्त 1995 में हुआ था, यह वह समय था जब हम भारवासी के जीवन में इंटरनेट आया था और आज के समय में तो इंटरनेट हमारी दिनचर्या का हिस्सा बन गया है

भारत में इंटरनेट पत्रकारिता का पहला दौर तो 19 वी सदी में ही शुरू हो गया था क्योंकि इंटरनेट के आने के बाद ही लोगों के इंटरनेट के जरिया पत्रकारिता शुरू की और तो आज इन्टरनेट ब्लोगिंग के माध्यम से भी हम एक दुसरे से और जानकारी से जुड़े हुए है

ज़रा सोचिये इंटरनेट आने से पहले हमें जानकारी कैसे मिलती थी और तो और पत्रकारिता का क्या हाल था, पत्रकारों को अपनी जानकारी जगह-जगह पहुचाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती थी उसके बाद भी पूरे भारत वासी तक जानकारी पहुंचा पाना संभव नही था

इंटरनेट की सहायता से लोग एक दुसरे से जुड़ने लग गये थे और जानकारी सांझी की जानी शुरू हो गई थी, आज इंटरनेट पत्रकारिता और ऑनलाइन ब्लोगिंग का अलग ही कारोबार है, आज इसके कारण सब लोग अपने देश के प्रति, नई आपदाओं और औसरो के प्रति जागरूक है

 

Bharat mein internet patrakarita ka pahla daur kab shuru hua
Bharat mein internet patrakarita ka pahla daur kab shuru hua

 

Bharat mein internet patrakarita ka pahla daur kab shuru hua

इंटरनेट की सुविधा के शुरू होने के बाद ही भारत में इंटरनेट पत्रकारिता का पहला दौर शुरू हो गया था सबसे पहले ऑनलाइन पत्रकारिता डॉटकॉम से शुरू हुई थी ऐसी कुछ साईट की शुरुआत हुई थी जो ऑनलाइन पत्रकारिता का काम करती थी

ripid.com भारत की पहली वेबसाइट थी जिसपे देश दुनिया से जुडी जानकारी दी जाती थी पर यह उतना बदलाव नही ले आ पाई जितना बदलाव तेहलका.com की वजह से आया, इसी वेबसाइट के कारण पूरा भारत इंटरनेट पत्रकारिता से जुडा और इसके बारे में जागरूक होता गया

internet patrakarita को हिंदी में internet journalism कहते है

 

Internet patrakarita ka pahla daur | भारत में इंटरनेट पत्रकारिता का पहला दौर

 

Bharat mein internet patrakarita ka pahla daur kab shuru hua

विकिपीडिया 

इंटरनेट पत्रकारिता का पहला दौर 1995 से 1998 तक था, 1998 तक कुल 48 दैनिक समाचार पत्रों को ऑनलाइन डाला गया था जो धीरे-धीरे करके भारत की जनता को ऑनलाइन पत्रकारिक की ओर जागरूक कर रहे थे

The Hindu Newspaper पहला समाचार पत्र था जिसे ऑनलाइन प्रकाशित किया गया था यह 1996 में प्रकाशित किया गया था

पहला न्यूज़पेपर जिसे ऑनलाइन भी डाला गया था, वह अंग्रेज़ी भाषा में था क्योंकि उस समय सबसे ज्यादा विश्व में अंग्रेज़ी भाषा का इस्तेमाल होता था और इस न्यूज़पेपर को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाना था इसलिए विश्व की प्रचलित भाषा का इस्तेमाल किया गया था

समय के साथ और भाषाओं में भी समाचार पत्र ऑनलाइन पब्लिश किया जाने लगा था पर शुरुआत में एक बार पब्लिश करने के बाद उसको edit करने की सुविधा नही थी

पहले के समय में ऑनलाइन पोस्टिंग का ज्यादा फायदा नही मिलता था उल्टा पैसों की दिक्कत ही हो जाती थी और तबके समय में पोस्टिंग की ज्यादा सुविधा भी नही मौजूद थी


Internet patrakarita ka dusra daur | भारत में इंटरनेट पत्रकारिता का दूसरा दौर

ऑनलाइन पत्रकारिता का दूसरा दौर 1998 से 2006 तक था इस समय ऑनलाइन पत्रिका डालने वाले अखबार की संख्या 116 तक पहुच गई थी, दुसरे दौर में भी ज्यादा तर पब्लिश होने वाले पत्रिकाएँ अंग्रेज़ी भाषा में थी इनका भी वही कारण था की वह अंग्रेज़ी भाषा के माध्यम से ज्यादा ऑडियंस तक पहुचना चाहते थे

 

Internet patrakarita ka pahla daur के कुछ डिजिटल पब्लिशर

  • Altnews.in
  • Boomlive
  • Cobrapost
  • Dailyhunt (aggregator)
  • Firstpost
  • HW News
  • India Times
  • Khabar Lahariya
  • Kashmir Bylines
  • LiveLaw
  • Newsclick
  • Newslaundry
  • One India
  • People’s Archive of Rural India
  • Pinkvilla
  • ScoopWhoop
  • SheThePeople.TV
  • Scroll.in
  • The Better India
  • Two Circles
  • The Chenab Times
  • The Lallantop
  • The News Minute
  • ThePrint
  • The Quint
  • The Wire (India)

यह कुछ पब्लिशर है जो उस समय सिर्फ ऑनलाइन ही अपनी जानकारी प्रकाशित करते थे, यह सब खेल, विश्व, देश आदि से जुडी जानकारी प्रदान करते थे, ऑनलाइन ब्लोगिंग की शुरुआत पत्रकारिता के लिए ही की गई थी

एक विश्व अध्ययन से पता चला था की इन्टरनेट पर डाले जाने वाले पत्रकारिता को सबसे ज्यादा भारत में लोग पढ़ते है, यह भी पता चला की रीडर पढ़े लिखे शिक्षित लोग है जो और देश दुनिया की खबर से ज्यादा भारत की खबर में दिलचस्पी रखते है

इस दौरान बहुत सी चीज़ों के बारे में पता चला और ऑनलाइन पत्रकारिक और ब्लॉग्गिंग की सुविधा भी बढाई थी  गई और ऑनलाइन पत्रकारिता में भारत में आए काफी साल हो गए थे जिसके कारण अब इसके खुदके ग्राहक थे और तो और दुसरे दौर में ही भारत के ब्लॉगर और पत्रकारों को आर्थिक रूप से भी फायदा होने लगा था


Internet patrakarita ka tisara daur | भारत में इंटरनेट पत्रकारिता का तीसरा दौर

इंटरनेट पत्रकारिता का तीसरा दौर 2006 से अब तक माना जाता है, भारत में इंटरनेट ब्लॉग्गिंग  में बहुत ही ज्यादा फायदा देखने को मिला 2007 में भारत में कुल 42 मिलियन(4 करोड़ से अधिक) ऑनलाइन पत्रकारिता को पढने वाले यूजर हो गए थे

भारत में ऑनलाइन पत्र को पढने वाले लोगो की संख्या और देशो में पढने वाले लोगों की संख्या के हिसाब से 5 वे नंबर पर थी अर्थात भारत ऑनलाइन पत्र पढने वालो की गिनती में 5 वें स्थान पर है

भारत में लोग अलग-अलग भाषा बोलते है, इसलिए उनका एक ही भाषा अंग्रेज़ी को समझ पाना बहुत मुश्किल हो रहा था जिसके कारण भी भारत की ज्यादा जनता तक पंहुचा नही जा रहा था इसी समस्या को दूर करने के लिए अंग्रेजी को मिला के कुल 13 भाषा में समाचार पत्र ऑनलाइन पब्लिश होने शुरू हुए थे

 

इंटरनेट पत्रकारिता को e- newspaper भी कहा जाता है

आजके समय में तो अलग-अलग भाषा में जानकारी और समाचार पत्र मौजूद है आज तो हिंदी के अलग से समाचार पत्र आते है और आजके समय में भाषा हमारे लिए समस्या का विषय नही है

 

आजके समय में भारत में प्रचलित e-newspaper ऑनलाइन समाचार पत्र

माचार पत्र   भाषा   पब्लिश करने की जगह   
Amar Ujala  हिंदी   उत्तर भारत से  
Asian Age  इंग्लिश   महानगरीय शहर 
Ananda Bazar Patrika  बंगाली   वेस्ट बंगाल  
Business Daily  इंग्लिश   भारत के बड़े शहरों से  
Dina Tanthi  तमिल   तमिलनाडु  
Dainik Bhaskar  हिंदी   भारत के बड़े शहरों से  
Dainik Jagran  हिंदी   मध्य, पूर्व और उत्तर भारत से  
Hindustan Times  इंग्लिश   भारत के बड़े शहरों से  
Maharashtra Times  मराठी   महाराष्ट्र  
Punjab Kesari  हिंदी   उत्तरी भारत 
The Hindu  इंग्लिश   भारत के बड़े शहरों से 
The Times of India  इंग्लिश   भारत के कोने कोने से  
The Indian Express  इंग्लिश   भारत के बड़े शहरों से  
The Telegraph  इंग्लिश   उत्तरी भारत  

तो आज हमने bharat mein internet patrakarita ka pahla daur kab shuru hua इसके बारे में डिटेल में जाना आइये इंटरनेट पत्रकारिता के बारे में और जानते है


इंटरनेट पत्रकारिता क्या है | What is internet journalism In Hindi

इंटरनेट के माध्यम से समाचार देने की प्रक्रिया को इंटरनेट पत्रकारिता कहा जाता है इससे हम इंटरनेट पर समाचार का आदान प्रदान कर सकते है

आपको इस बात का पता तो होगा ही की हमारे फ़ोन और लैपटॉप में उपस्थित जी मेल या ई मेल की सुविधा भी नेट से ही चलती है और पहले के समय में पत्रकार एक जगह से जानकारी इकट्ठी करके दूसरी जगह ईमेल के ज़रिये भेजते थे फिर दूसरी तरफ के पत्रकार उस जानकारी को प्रकाशित करते थे और साथ में इस बात का भी ध्यान रखा जाता था की जानकारी की सत्यता भी परखी जाये

जैसे हमारी टीवी पर समाचार के चैनल ब्रॉडकास्ट किये जाते थे उसी प्रकार इंटरनेट पर भी जानकारी प्रकाशित की जाति है जिससे इंटरनेट चलाने वाला हर व्यक्ति अपनी स्वेच्छा से उस जानकारी तक पहुच सके, यह सारी प्रक्रिया इंटरनेट की सहायता से कीजाती है जिस वजह से इसको इंटरनेट पत्रकारिता कहा जाता है

इसे ऑनलाइन पत्रकारिता, e-newspaper, साईबर पत्रकारिता, इंटरनेट पत्रकारिता और वेब पत्रकारिता के नाम से भी जाना जाता है हमने आपको इसके चरण तो बता ही दिए है पर आजके समय में हमें जब भी कुछ जानना होता है तो हम किसी विशेष पब्लिशर द्वारा पब्लिश किये गए आर्टिकल की जगह गूगल पर जो भी जानना होता है डालते है और आये गए विकल्पों के द्वारा जानकारी प्राप्त करते है

इसे इंटरनेट बब्लोगिंग कहा जाता है यह भी इंटरनेट पत्रकारिता का ही एक रूप है इसमें भी जानकारी ही दी जाति है इसकी सबसे ख़ास बात यह है की यह स्वतंत्र है अर्थात इसके द्वारा हर व्यक्ति अपनी बात और लोगो तक बिना किसी रोक टोक के पंहुचा सकता है


इंटरनेट डिजिटल पत्रकारिता का इतिहास | History Of Online journalism In Hindi

इंटरनेट पत्रकारिता की शुरुआत इंटरनेट के आते ही भारत में हो गई थी, भारत में इन्टरनेट की सुविधा 1995 में शुरू हुई थी उसी समय से ही लोगों ने किसी न किसी तरह से अपनी जानकारी इंटरनेट पर डालनी शुरू कर दी थी

शुरुआत में तो बस सिर्फ मुख्य अखबार लिखने वाले लोग या जिनको अधिकार हो वह ही लोग इंटरनेट पर जानकारी share कर सकते थे पर समय के साथ साथ इसमें सुधार आता गया और तो और यह समय के साथ कई चरणों से गुजरती गई और आज हम लोग इंटरनेट से खबरे पढ़ते और सुनते है

इंटरनेट ब्लोगिंग या हम जिसे आज इंटरनेट पत्रकारिता के नाम से जानते है उसकी शुरुआत 1995 में हुआ था, इसका पहला चरण 1995 से 1998 तक था और इसका दूसरा चरण 1998 से लेके 2006 तक था इसका तीसरा चरण अभी भी चल रहा है

हर चरण में बहुत से सुधार और उपलब्धि देखने को मिली है और इन सबके बारे में हमने ऊपर डिटेल में बताया है, आप जो यह हमारा आर्टिकल पढ़ रहे है ये भी इंटरनेट पत्र कारिता के तहत ही पढ़ पा रहे है जिसे हम इंटरनेट ब्लोगिंग कहते है


इंटरनेट पर ब्लॉग लिखना | Internet blogging

जब एक स्वतंत्र व्यक्ति अपने विचार या जानकारी इंटरनेट पर डालता है तो उसे इंटरनेट ब्लोगिंग कहते है, आज इसी के माध्यम से बहुत से लोगो को रोजगार मिला है, इंटरनेट ब्लोगिंग की वजह से ही आज हमारा जीवन और आसान हो गया है

हमें जिस भी चीज़ के बारे में जानना होता है हम उसके बारे में इंटरनेट पर डालते है और लोगो के लिखे ब्लॉग पढ़कर हमें उस चीज़ के बारे में पता चलता है

हमारे मोबाइल में उपस्थित गूगल पर जब हम कुछ सर्च करते है तो वहाँ पर जितने भी विकल्प दीखते है वह सब ब्लॉग है अर्थात वह भी किसी व्यक्ति या कंपनी द्वारा इंटरनेट पर डाला गया है

इंटरनेट पर ब्लोगिंग करने के लिए आपकी खुद की साईट व वेबसाइट होनी चाहिए जिसके माध्यम से आप इंटरनेट पर अपना कंटेंट डाल सकते है, आप जितनी साफ़ और अच्छी जानकारी प्रदान करेंगे वह उतने ही ज्यादा लोगों तक पहुचेगी और आपको उतना ही फायदा होगा

गूगल पर वेबसाइट बनाने के बाद आप वर्डप्रेस, ब्लागस्पाट आदि की सहायता ले सकते है यह आपको लिखने के लिए डैशबोर्ड देते है जिसपे आप अपने हिसाब से अपना ब्लॉग लिख कर इंटरनेट पर पब्लिश कर सकते है

इंटरनेट ब्लॉग्गिंग के कारण ही आज इंटरनेट पर हर चीज़ मौजूद है और हम यह भी मानते है की गूगल सब जनता है ऐसा इसलिए है क्योंकि उसपे लोग एक लम्बे समय से जानकारी डाल रहे है जिसके कारण गूगल पे लगभग हर विषय की जानकारी उपलब्ध है

समय के साथ लोग और भी अच्छे तरीके से ब्लोगिंग सीख रहे है और टाइम टू टाइम अपने कंटेंट को अपडेट कर रहे है और इंटरनेट पर जानकारी डाल रहे है


इंटरनेट डिजिटल पत्रकारिता के फायदे

  • आज यह कमाई का एक जरिया बन गया है यहाँ पर आपको सही जानकारी डाल के उसको लोगों तक पहुँचाने के पैसे मिलते है
  • आज इसके कारण बहुत लोगों को रोजगार मिला है
  • इंटरनेट ब्लोगिंग के कारण आज हमें हमारे काम जी जानकारी घर बैठे मिल जाती है
  • पूरा देश या कहे तो पूरी दुनिया आज एक दुसरे से अपने विचारों का आदान प्रदान कर रही है
  • इसके ज़रिये हम घर बैठे जानकारी देते भी है और हमें घर बैठे जानकारी मिल भी जाति है

FAQs – bharat mein internet patrakarita ka pahla daur kab shuru hua

Q1: भारत में इंटरनेट पत्रकारिता का शुरू हुई?

भारत में इन्टरनेट पत्रकारिता की शुरुआत 1995 में इंटरनेट के भारत में आते ही हुई थी

Q2: भारत में इंटरनेट पत्रिका का पहला दौर कब शुरू हुआ?

भारत में इंटरनेट पत्रकारिता का पहला दौर 1995 में हुआ था और यह 1995 – 1998 तक था

Q3: इंटरनेट पत्रकारिता के कितने रूप हैं?

इसके दो रूप है

Q4: इंटरनेट का पुराना नाम क्या है?

ARPANET (Advanced Research Projects Agency Network) इन्टरनेट का पुराना नाम है

Q5: हिंदी में नेट पत्रकारिता का आरंभ कैसे हुआ?

हिंदी में पत्रकारिता का आरंभ एक पोर्टल के द्वारा हुआ था वेबदुनिया नाम के पोर्टल द्वारा हिन्दी में जानकारी का आदान प्रदान शुरू हुआ था

Q6: पत्रकारिता की शुरुआत किसने की?

पत्रकारिता की शुरुआत जेम्स ऑगस्टस हिक्की द्वारा की गई थी

Leave a Comment

error: Content is protected !!